राजपूत समाज की कलेक्ट्रेट पर हुँकार, सात दिन का अल्टीमेटम व अगले सप्ताह भीलवाड़ा बंद की चेतावनी

राजपूत समाज की कलेक्ट्रेट पर हुँकार, सात दिन का अल्टीमेटम व अगले सप्ताह भीलवाड़ा बंद की चेतावनी

मरूधर विशेष/हनुमान सिंह पुरावत
भीलवाड़ा- शहर के मालोला में गत दिनों कुछ आपराधिक तत्वों द्वारा प्रॉपर्टी व्यवसायी भगवान सिंह पर हुई फायरिंग मामले में पुलिस द्वारा राजनीतिक अथवा सामाजिक दबाव के चलते जो लिपापोती की जा रही है, उसके विरोधस्वरूप गुरुवार को समस्त राजपूत समाज व उससे जुड़े विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों सहित सैंकड़ों लोगों ने जिला कलेक्ट्रेट का घेराव कर पुलिस-प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
श्री राजपूत करणी सेना राष्ट्रीय कार्यसमिति के अध्यक्ष विश्वबंधु सिंह राठौड़ ने बताया पुलिस द्वारा इस गोलीकांड के सभी आरोपियों की गिरफ्तारी आज तक भी नहीं हुई है। क्योंकि पुलिस इस मामले में किसी के प्रभाव के चलते मुख्य आरोपियों का बचाव करना चाह रही है और मामले को खानापपूर्ति के तहत रफा-दफा करने पर तुली हुई है। ऐसे में जिले का संपूर्ण राजपूत समाज काफी आक्रोशित है। यही कारण रहा कि आज के इस विरोध प्रदर्शन में शहर ही नहीं, जिलेभर से सैकड़ों की तादाद में समाज के लोग एकत्रित हुए और अपनी एकता का परिचय देते हुए प्रशासन को अवगत करा दिया कि मालोला प्रकरण में समय रहते यदि प्रभावी और ठोस कार्यवाही नहीं की गई, तो यह समाज इस आंदोलन को उग्र रूप भी दे सकता है, जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी पुलिस व प्रशासन की होगी।
राठौड़ ने कहा कि इस घेराव के माध्यम से समाज ने प्रशासन को आगाह किया है कि यदि सात दिनों के भीतर पुलिस द्वारा गोलीकांड के सारे आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जाता है, तो क्षत्रिय समाज उग्र आंदोलन के लिये विवश होगा। जरूरत पड़ी तो भीलवाड़ा ही नहीं सम्पूर्ण जिला भी बंद कराया जाएगा।
कलेक्ट्रेट घेराव के दौरान सुरेन्द्र सिंह पांसल, चतर सिंह मोटरास, उम्मेद सिंह राठौड़, कान सिंह खारड़ा, गजेन्द्र सिंह, सुरेन्द्र सिंह मोटरास, नागेन्द्र सिंह जामोली, अक्षयदीप सिंह राठौड़, योगेन्द्र सिंह कटार व बबलु सिंह ठूमिया सहित क्षत्रिय समाज के सैंकड़ों लोग मौजूद रहे।